Wednesday, October 10, 2012

दाद

चुटकलों की थैली में
मेरी ये नज़्म भी डाल दीजे
हमदर्द तक आजकल
कहकहों में दाद दे रहे हैं 

No comments:

Post a Comment

Whatever you say today, will help me write better tomorrow.
Thanks :)